पीएम मोदी ने किया भूमिपूजन, अयोध्या में अब बनेगा भव्य राम मंदिर - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Wednesday, August 5

पीएम मोदी ने किया भूमिपूजन, अयोध्या में अब बनेगा भव्य राम मंदिर

पीएम मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशीला, जनमानस का सपना हुआ साकार
हिंदुस्तान मीडिया/आयोध्या/यूपी
हिंदुओं की आस्था के प्रतीक मर्यदा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम अब टेंट में नहीं बल्कि भव्य मंदिर में विराजमान होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अयोध्या में भूमिपूजन करने के उपरांत राम मंदिर निर्माण की आधारशीला रखी। पीएम मोदी द्वारा मंदिर निर्माण की आधारशीला रखे जाने के साथ ही करीब 492 साल का इंतजार आज समाप्त हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन के लिए 29 साल बाद आज अयोध्या पहुंचे थे। पीएम मोदी सुनहरे कुर्ते और सफेद धोती में अयोध्या पहुंचे, जहां उन्होंने शुभ मुहूर्त में राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमिपूजन किया। भूमिपूजन के ऐतिहासिक मौके पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत देश के कई दिग्गज नेता मौजूद थे। 
राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा अयोध्या का राम मंदिर : मोदी
अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन एवं आधारशीला रखने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को संबोधित किया। उन्होंने सभी देशवासियों को इस ऐतिहासिक अवसर की बधाई दी। पीएम ने कहा कि आने वाले समय में यह राम मंदिर हमारी राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा। उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण का शुभ कार्य लाखों-करोड़ों लोगों के सहयोग से शुरू हो रहा है।  श्री मोदी ने कहा कि आज हमारा सदियों पुराना सपना साकार हो रहा है। आज का दिन त्याग, तप और संघर्ष का  परिचायक है। पीएम ने कहा कि आज पूरी दुनिया राममय हो गयी है। दुनिया भर में फैले करोड़ों राम भक्त गर्व एवं आनंद का अनुभव कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के निर्माण से न सिर्फ अयोध्या का आकर्षण बढ़ेगा बल्कि यहां की आर्थिक व्यवस्था भी बदलेगी।  यहां नए-नए अवसर भी खुलेंगे।
अनेकता में एकता के स्वरूप हैं श्रीराम
प्रभु श्रीराम की महिमा का बखान करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि तुलसी के राम सगुण राम हैं। नानक और कबीर के राम निर्गुण राम हैं। अयोध्या बुद्ध और जैनधर्म का केन्द्र रहा है। उन्होंने कहा कि रामायण सर्वत्र मिलेगा। तमिल में कंब रामायण तो कश्मीर में रामवतार चरित मिलेगा। मलयालम में रामचरितम है तो गुरु गोविंद सिंह ने खुद गोविंद रामायण लिखी है। राम सब जगह भिन्न-भिन्न रूपों में मिलेंगे लेकिन वो एक हैं। वे अनेकता में एकता के स्वरूप हैं।
दुनिया के कई देशों में भी भगवान श्रीराम पूजनीय
प्रधानमंत्री ने कहा कि दूसरे देशों के नागरिक भी खुद को राम से जुड़ा मानते हैं। उन्होंने कहा कि विश्व के सबसे बड़े इस्लामिक देश इंडोनेशिया में रामायण के कई रूप हैं और वहां राम पूजनीय हैं। कंबोडिया, मलेशिया, थाईलैंड, इरान और चीन में भी राम के प्रसंग और राम कथा का विवरण मिलता है। श्रीलंका में जानकी हरण के नाम से कथा सुनाई जाती है। नेपाल तो माता जानकी से आत्मीय रूप से जुड़ा हुआ है। उपरोक्त सभी देशों में भगवान श्रीराम वंदनीय हैं।
रिपोर्ट : मधुरेश प्रियदर्शी

No comments:

Post a Comment