सत्तरघाट महासेतु वाले बयान पर माफी मांगे नेता प्रतिपक्ष : शालिनी - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Thursday, July 16

सत्तरघाट महासेतु वाले बयान पर माफी मांगे नेता प्रतिपक्ष : शालिनी

सत्तरघाट महासेतु पर पक्ष-विपक्ष आमने-सामने, जदयू नेत्री शालिनी मिश्रा ने तेजस्वी यादव पर बोला हमला

हिंदुस्तान मीडिया/मोतिहारी/बिहार

पूर्वी चंपारण जिले के दक्षिणी छोर से होकर गुजरने वाली गंडक नदी पर केसरिया प्रखंड के ढेकहां में नवनिर्मित सत्तरघाट महासेतु को लेकर बिहार की सत्ताधारी एनडीए और मुख्य विपक्षी दल राजद आमने-सामने आ गये हैं। दरअसल बुधवार की शाम किसी ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट कर यह अफवाह फैला दी कि बाढ़ के कारण गंडक नदी का नवनिर्मित सत्तरघाट महासेतु ध्वस्त हो गया। देखते ही देखते सोशल मीडिया पर वायरल यह खबर सुर्खियों में आ गयी और उसके बाद विपक्ष सरकार पर हमलावर हो गया। और तो और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने लगे हाथ महासेतु के ध्वस्त होने का आरोप सूबे के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव के माथे मढ़ दिया और उनसे तत्काल अपने पद से इस्तीफा देने की मांग करने लगे।

बिहार एवं चंपारण का गौरव है सत्तरघाट का महासेतु : शालिनी
सत्तरघाट महासेतु को लेकर विपक्ष के हमलावर रवैया के बीच गुरुवार को मोतिहारी के पूर्व सांसद कमला मिश्र मधुकर की सुपुत्री व जदयू नेत्री शालिनी मिश्रा ने केसरिया प्रखंड के ढेकहां स्थित सत्तरघाट महासेतु का दौरा किया। महासेतु की स्थिति देखने के बाद जदयू नेत्री शालिनी मिश्रा ने हिंदुस्तान मीडिया से विशेष बातचीत भी की। जदयू नेत्री ने कहा कि गंडक नदी पर नवनिर्मित सत्तरघाट का महासेतु बिहार और चंपारण का गौरव है। यह महासेतु अडिग है। इस बार गंडक नदी में आयी बाढ़ का कोई असर सत्तरघाट महासेतु पर नहीं पड़ा है। उन्होंने कहा कि गंडक नदी में आई बाढ़ के कारण सत्तरघाट महासेतु से करीब तीन किलोमीटर दूर छपरा मार्ग में गोपालगंज जिले के फैजुल्लाहपुर के समीप एक छोटे पुल का संपर्क पथ टूट गया है, जिसे विपक्ष सत्तरघाट महासेतु बता रहा है। हालांकि सरकार की ओर से टूटे संपर्क पथ की मरम्मती का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। 

सत्तरघाट महासेतु को ध्वस्त बताने के बयान पर माफी मांगे नेता प्रतिपक्ष

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव पर पलटवार करते हुए जदयू नेत्री शालिनी मिश्रा ने कहा कि सत्तरघाट महासेतु को ध्वस्त बताकर बिहार के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव से इस्तीफे की मांग करने वाले नेता प्रतिपक्ष को पहले वास्तविक स्थिति की जानकारी लेनी चाहिए थी। जदयू नेत्री ने कहा कि चट्टान की तरह सुरक्षित खड़ा सत्तरघाट का महासेतु नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव को करारा तमाचा है। शालिनी मिश्रा ने कहा कि सस्ती लोकप्रियता के लिए नेता प्रतिपक्ष सरकार को बदनाम कर रहे हैं। विपक्ष पर तंज कसते हुए जदयू नेत्री ने कहा कि किसके राज में बिहार में महाविनाश और किसके राज में समुचित विकास हुआ है, यह बताने की जरूरत नहीं है। महासेतु को लेकर नेता प्रतिपक्ष द्वारा दिया गया बयान गैरजिम्मेदाराना एवं उनकी ओछी मानसिकता का परिचायक है। जदयू नेत्री ने गैरजिम्मेदाराना बयान को लेकर माफी मांगने की मांग तेजस्वी यादव से की है। 

मजबूती के साथ ही विश्वास का सेतु बनाता है पुल निर्माण निगम

एक सवाल के जवाब मे जदयू नेत्री ने कहा कि बिहार सरकार का पुल निर्माण निगम मजबूती के साथ-साथ विश्वास का सेतु बनाता है ऐसे में सत्तरघाट का महासेतु हो या निगम द्वारा निर्मित कोई अन्य पुल उसके टूटने या ध्वस्त होने का सवाल ही पैदा नहीं होता है। यहां बता दें कि गंडक नदी पर केसरिया के ढेकहां में नवनिर्मित सत्तरघाट का महासेतु पूर्वी चंपारण जिले के केसरिया को पड़ोसी जिला गोपालगंज एवं सारण से जोड़ता है। पर्यटन के दृष्टिकोण से भी यह नवनिर्मित महासेतु अतिमहत्वपूर्ण है।

No comments:

Post a Comment