बिहार में चुनाव की नहीं राष्ट्रपति शासन की जरुरत : अवनीश - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Tuesday, July 14

बिहार में चुनाव की नहीं राष्ट्रपति शासन की जरुरत : अवनीश

जहां भगवान लॉकडाउन में और जनता संकट में  हो वहां चुनाव की क्या जरुरत : अवनीश

हिंदुस्तान मीडिया/मोतिहारी/बिहार

कोरोना को लेकर बिहार में हालात बदतर होते जा रहे हैं। सूबे में एक बार फिर लॉकडाउन भी लगने जा रहा है। इसी बीच बिहार विधानसभा चुनाव की सरगर्मी भी बढ़ गई है। ऐसे में  राजनैतिक दलों के अलावें चुनाव आयोग भी बिहार चुनाव की तैयारियों में जुट गया है। कोरोना संकट के बीच बिहार विधानसभा चुनाव समय पर होगा या नहीं  इसे लेकर सूबे में पक्ष-विपक्ष के बीच बहस जारी है। इसी कड़ी में मंगलवार को बिहार के कद्दावर नेता व ढाका-चिरैया विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के पूर्व विधायक अवनीश कुमार सिंह ने मंगलवार को एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि देश समेत जिस बिहार में कोरोना संकट को लेकर देवी-देवता लॉकडाउन में हो, आदमी से आदमी दूरी बना रहा हो, स्कूल-कॉलेज बंद हो, यातायात सेवा ठप्प हो और तो और जहां विषम परिस्थिति में डॉक्टर मरीजों का इलाज करने से कतराते हों वहां विधानसभा का चुनाव कैसे होगा?

बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए महामहिम को लिखेंगे पत्र

भाजपा के पूर्व विधायक श्री सिंह ने कहा कि बिहार की वर्तमान स्थिति को देखते हुए केन्द्र सरकार वर्तमान बिहार विधानसभा का कार्यकाल समाप्त होने के बाद यहां राष्ट्रपति शासन लागू करे। उन्होंने कहा कि केन्द्र एवं बिहार सरकार सहित सभी राजनैतिक दलों को कोरोना संकट से बिहार को उबारने के लिए एकजुटता के साथ सामूहिक प्रयास करने की जरुरत है। पूर्व विधायक ने कहा कि चुनाव आयोग को जनहित को ध्यान में रखते हुए बिहार विधानसभा चुनाव को तत्काल टाल देना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट को लेकर बिहार विधानसभा का चुनाव टालने और विधानसभा का कार्यकाल समाप्त होने के बाद सूबे में राष्ट्रपति शासन लागू करने के लिए वे बहुत जल्द महामहिम राष्ट्रपति को पत्र लिखेंगे।

कोरोना संकट को लेकर मानवता खतरे में

कोरोना संकट को लेकर मानवता खतरे में है और बिहार का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। प्रतिदिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। यहां आमजन से लेकर चिकित्सक और प्रशासनिक पदाधिकारी लगातार कोरोना के चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में अभी जरूरत है पीड़ित मानवता को बचाने की न कि चुनाव को लेकर राजनीति करने की। एक सवाल के जवाब में पूर्व विधायक ने कहा कि चुनाव अगर एक साल के बाद भी हो तो उससे बिहार के सेहत पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा। लेकिन, अगर कोरोना पीड़ितों की सेवा-सहायता में कमी रह जाएगी तो ईश्वर माफ नहीं करेंगे। पूर्व विधायक ने बिहार के सभी सांसदों, विधायकों, विधान पार्षदों, चिकित्सकों, सभी दलों के नेताओं, व्यवसायियों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं से अपने-अपने क्षेत्र में कोरोना पीड़ितों की सहायता में तत्काल जुट जाने का आह्वान किया है।

No comments:

Post a Comment