बिहार में वज्रपात का कहर, 40 लोगों की मौत - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Thursday, June 25

बिहार में वज्रपात का कहर, 40 लोगों की मौत

बिहार में भारी बारिश के साथ वज्रपात का कहर, 40 की मौत

हिंदुस्तान मीडिया/पटना/बिहार

बिहार में गुरुवार को पूरे दिन मौत की बारिश होती रही। मूसलाधार बारिश के साथ ही वज्रपात होने से प्रदेश के अलग-अलग जिलों में अबतक मिली जानकारी के अनुसार कुल 40 लोगों की मौत हो गई है। हालांकि वज्रपात से हुई मौत का आंकड़ा बढ़ भी सकता है।

राज्य के विभिन्न जिलों से अबतक  मिल रही जानकारी के मुताबिक आज हुए वज्रपात से सर्वाधिक नुकसान गोपालगंज जिले को हुआ है। यहां सबसे अधिक 14 लोगों की मौत हुई है। वहीं सीवान में 5, औरंगाबाद  में 3, मधुबनी में 7, पूर्णिया 1, बांका में 4, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण और बेतिया में 2-2 लोगों की मौत हुई है।

बिहार के अलग-अलग जिलों में वज्रपात से हुई मौत का विवरण

औरंगाबाद : जिले के हसपुरा प्रखंड में अलग अलग जगहों पर वज्रपात से तीन लोगों की मौत। 

सीवान : वज्रपात के चपेट में आने से 5 लोगों की मौत। 

बांका : जिले के रजौन में वज्रपात से 3 बालक की मौत, दो महिला सहित तीन लोग घायल, सुईया थाना क्षेत्र में युवक की मौत

मधुबनी : जिले में आज हुए वज्रपात से सात लोगों की मौत, घोघरडीहा प्रखण्ड के बेलहा गांव में पति-पत्नी की मौत। फुलपरास प्रखंड के सुग्गापट्टी गांव में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत। मधेपुर थाने के भखराईन गांव में एक व्यक्ति की मौत, बेनीपट्टी के बिरौली में एक की मौत।

गोपालगंज : जिले के अलग-अलग प्रखंडों में वज्रपात से 14 लोगों की मौत।

पूर्णिया : कसबा प्रखंड में वज्रपात से एक बच्चे की मौत, 4 घायल

पूर्वी चंपारण : जिले में वज्रपात से नाबालिग बच्ची सहित दो लोगों की हुई मौत।

पश्चिमी चंपारण : जिले के शिकारपुर में विशुनपुरवा तथा मालदा दो लोगों की हुई मौत। शिकारपुर के भसुरारी पंचायत के दो अलग-अलग टोले में दो की मौत।

भागलपुर : जिले के नारायणपुर के नवटोलिया में 12 वर्षीय बच्ची की वज्रपात से हुई मौत।

बढ़ सकती है मृतकों एवं घायलों की संख्या

भारी वर्षा के दौरान हुए वज्रपात के चपेट में आने से कई लोगों के झुलस कर घायल जाने की भी खबर है। सभी घायलों को उनके नजदीकी के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। मिल रही जानकारी के अनुसार आज हुए वज्रपात में मृतकों एवं घायलों की संख्या बढ़ने की भी संभावना है। विस्तृत विवरण की प्रतिक्षा की जा रही है।

No comments:

Post a Comment