प्रवासी मजदूरों की समस्याओं का जल्द समाधान हो : पप्पू वर्मा - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Saturday, May 16

प्रवासी मजदूरों की समस्याओं का जल्द समाधान हो : पप्पू वर्मा

प्रवासी मजदूरों की समस्याओं को गंभीरता से ले राज्य सरकार : पप्पू वर्मा

स्टेट डेस्क/पटना/बिहार

कोरोना संकट को लेकर देश भर में लागू लॉकडाउन के बीच दूसरे प्रदेशों से लौट रहे प्रवासी मजदूरों को भारी परेशानी हो रही है। इन प्रवासी मजदूरों की परेशानी को देखते हुए पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा ने वैश्विक महामारी के चलते अपने- अपने राज्य वापस लौट रहे  प्रवासी मजदूरों के परेशानियों को देखते हुए केन्द्र एवं राज्य सरकारों से जल्द से जल्द श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की संख्या बढ़ाने की मांग की है। 
साथ ही परिवहन व्यवस्था को दुरुस्त करते हुए पर्याप्त संख्या में बसों का परिचालन सुनिश्चित कर उनके समस्याओं को समाधान किए जाने की मांग की है। 

कोरेन्टाइन सेंटर में रह रहे मजदूरों को मिले मजदूरी भत्ता

श्री वर्मा ने कोरोंटाइन सेंटर में रह रहे मजदूरों को मजदूरी भत्ता देने की पुरजोर वकालत की है। उन्होंने कहा कि आए दिन कोरोंटाइन सेंटर में मजदूरों को सांप काटने की घटनाएं भी सामने आ रही है।  ऐसे में सरकार मजदूरों के जानमाल की सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करे। सिंडिकेट सदस्य श्री वर्मा ने कोरोंटाइन सेंटरों की ऑडिटिंग कराने एवं वहां हो रहे खर्च की जानकारी निगरानी विभाग के नजर में  रखकर कराए जाने की मांग सरकार से की है।  श्री वर्मा ने कहा कि राज्यों के सरकारों द्वारा मजदूरों को लाने के लिए ट्रेन  व बस सेवा शुरू करके उन्हें लाने का आग्रह केन्द्र सरकार से किया गया था। केंद्र सरकार ने तुरंत ही राज्यों के सलाह को मानते हुए श्रमिक स्पेशल ट्रेन व बस सेवा शुरू कर दिया था। लेकिन, बड़ी संख्या में लौट रहे  मजदूरों के लिए यह व्यवस्था छोटी पड़ गई है। 
फोटो : पीयू सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा

प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित उनके घर तक पहुंचाया जाए

आए दिन अपने-अपने घरों को वापस लौट रहे मजदूरों की सड़क दुर्घटना में हो रही मौत की घटनाएं सामने आ रही है। इसलिए केंद्र एवं राज्य सरकार को इन्हें सुरक्षित वापस लाने के लिए अधिक संख्या में गाड़ियों का इंतजाम करना होगा एवं सड़क दुर्घटना में घायल या मृत हुए मजदूरों के लिए पर्याप्त मुआवजा की व्यवस्था करनी होगी। पप्पू वर्मा ने जोर देकर कहा कि प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित सड़क के रास्ते व ट्रेन से लाने के लिए युद्ध स्तर पर तैयारी करके उन्हें जल्द से जल्द अपने प्रदेश तक पहुंचाया जाए। उन्होंने कहा कि यहां सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि सभी राज्यों के सरकारों द्वारा अपने-अपने राज्य के मजदूरों को लाने के लिए उच्च पदाधिकारियों के टीम का गठन किया गया था आज ऐसी स्थिति में वह टीम कहां है ? प्रत्येक दिन समय के साथ मजदूरों की हालत खराब होती जा रही है। आए दिन कई प्रकार की घटनाएं सामने आ रही है। केंद्र सरकार द्वारा पर्याप्त मात्रा में सभी राज्यों को पैसा दिया गया है,उसके बावजूद लोगों को परेशानियों का सामना क्यों करना पड़ रहा है।यह गंभीर चिंता का विषय है। 

कोरोना के आड़ में केन्द्र को बदनाम करने की हो रही साजिश

आशंका व्यक्त करते हुए सिंडिकेट सदस्य श्री वर्मा ने कहा कि कोरोना जैसे वैश्विक महामारी के आड़ में कहीं केंद्र सरकार को बदनाम करने की साजिश तो नहीं रची जा रही है। केंद्र सरकार को भी ऐसे समय में राज्यों को दिए गए पैसों पर नजर बनाए रखना चाहिए ताकि जरुरतमंदों के बीच खर्च होने वाले पैसे का बंदरबांट नहीं हो सके। लॉकडाउन के दौरान बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए पप्पू वर्मा ने कहा कि आए दिन घट रही सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए हाईवे पर चलने वाली गाड़ियों की पूर्व निर्धारित स्पीड का कड़ाई से पालन करवाया जाए। 
अब देखना यह है कि केन्द्र एवं राज्यों की सरकारें पटना विश्वविद्यालय के सिंडिकेट सदस्य पप्पू वर्मा द्वारा दिए गये सुझावों पर कितना अमल करती है। खैर, यह तो आनेवाला समय ही बतलाएगा।

No comments:

Post a Comment