पीएमओ में किया फोन तो आधे घंटे में मिला भागलपुर की तीन भूखी बहनों को भोजन - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Friday, April 3

पीएमओ में किया फोन तो आधे घंटे में मिला भागलपुर की तीन भूखी बहनों को भोजन

लॉकडाउन : पीएमओ में किया फोन तो आधे घंटे में मिला तीन भूखी बहनों को भोजन

न्यूज डेस्क/भागलपुर/बिहार

कोरोना संक्रमण को लेकर देश में लागू लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री कार्यालय {PMO} काफी चौकसी बरत रहा है। पीएमओ के आदेश का त्वरित असर आज बिहार के भागलपुर में देखने को मिला है। यहां लॉकडाउन के कारण घर में बैठी तीन बहनें अपने काम पर नहीं जा पा रही थी। काम पर नहीं जाने के कारण घर में अनाज के लाले पड़ गये। इस कारण तीनों बहनें तीन दिन से भूखी प्यासी थीं। भूखी बहनों ने आपदा की इस स्थिति में सीधे प्रधानमंत्री कार्यालय {PMO}के हेल्पलाइन नम्बर 1800118797 पर फोन कर अपनी व्यथा सुनाई। भूखी बहनों की बात सुनकर पीएमओ तुरंत सक्रिय हुआ और भागलपुर के जिला प्रशासन को पूरे प्रकरण की जानकारी दी। पीएमओ से निर्देश मिलते ही हरकत में आए जिला प्रशासन ने आनन-फानन में जगदीशपुर के सीओ सोनू भगत को पका हुआ भोजन एवं सूखा राहत सामग्री को लेकर मौके पर भेजा। सीओ ने तीनों बहनों को अपनी उपस्थिति में भोजन कराया। भूख पीड़ित तीनों बहनें भागलपुर के बरारी थाना क्षेत्र के बड़ी खंजरपुर गांव की रहने वाली हैं।

ट्रेन हादसे में तीन साल पहले हो चूकी है इनके पिता की मौत 

तीनों बहनों में सबसे बड़ी गौरी कुमारी ने मीडिया को बताया कि ट्रेन हादसे में तीन साल पहले उसके पिता सनोज रजक की मौत हो गई थी। जबकि नौ साल पहले करंट लगने से उसकी मां और भाई की करंट लगने से जान चली गई थी। गौरी कुमारी ने बताया कि वो चार बहन है। तीन बहनें एक साथ रहती है। जबकि उसकी छोटी बहन वर्तमान में अपनी मौसी के यहां है। गौरी के अनुसार माता-पिता के निधन के बाद से सभी बहनों की जिम्मेवारी उनके सर पर इ गई, जिसके कारण उसने वर्ग आठवीं के बाद पढ़ाई छोड़ दी। अपनी बड़ी बहन आशा के साथ दूसरों के घरों में काम कर वह किसी तरह अपी बहनों का गुजारा कर रही है।

तीनों बहनों को अब नहीं होगी कोई परेशानी

इस संदर्भ में पुछे जाने पर जगदीशपुर अंचल के सीओ सोनू भगत ने बताया कि तीनों बहनों ने पीएमओ के हेल्पलाइन नंबर पर फोन किया था। पीएमओ से जिला प्रशासन को मिले निर्देशानुसार आधे घंटे के अंदर तैयार भोजन  तीनों बहनों को उपलब्ध कराया गया। साथ ही खाने के लिए सूखा राशन भी दिया गया है। उन्होंने बताया कि तीनों बहने को अब किसी भी जरूर के लिए उन्होंने अपना मोबाइल नम्बर दे दिया है। सीओ के मुताबिक अब तीनों बहनों को कोई परेशानी नहीं होगी। लॉकडाउन के बीच पीएमओ द्वारा की गई इस त्वरित कार्रवाई की स्थानीय लोग खूब प्रशंसा कर रहे हैं। इस पुनीत कार्य के लिए लोग पीएम नरेन्द्र मोदी को बधाई भी दे रहे हैं।

No comments:

Post a Comment