बेगूसराय में पुलिस ने युवक का आंख फोड़ा - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Monday, April 13

बेगूसराय में पुलिस ने युवक का आंख फोड़ा

पुलिसिया पिटाई से गई युवक के आंख की रोशनी, गेहूं की कटनी से लौट रहा था घर

न्यूज डेस्क/बेगूसराय/बिहार

कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर पूरे देश में जारी लॉकडाउन के बीच बिहार पुलिस का क्रूर चेहरा एक बार फिर सामने आया है? हालांकि पुलिस लॉकडाउन में लोगों खासकर असहायों का मददगार भी साबित हो रही है। बिहार के बेगूसराय जिले के चेरिया बरियारपुर पुलिस पर एक युवक की बेरहमी से पिटाई करने का आरोप लगा है। मिली जानकारी के मुताबिक युवक पर लॉकडाउन के उल्लंघन का आरोप लगाकर पुलिस ने उसकी जमकर पिटाई की जिससे उसके एक आंख में गंभीर चोट लग गई और उसके एक आंख की रोशनी खत्म हो गई।

युवक ने पुलिस पर लगाया बेवजह पिटाई करने का आरोप

पीड़ित युवक ने बताया कि वह गेहूं कटनी का काम करके खेत से अपने घर जा रहा था। उसी दौरान पुलिस ने उसे पकड़ लिया और जमकर पिटाई कर दी। इस दौरान युवक की आंख में पुलिस के डंडे से चोट लग गया। पीड़ित युवक नीरज कुमार चेरिया बरियापुर थाना क्षेत्र के खंजापुर गांव का रहने वाला है। उसने पुलिस पर बेवजह पिटाई करने का आरोप लगाया है। पीड़ित युवक के मुताबिक बीते 8 अप्रैल को वह गेहूं कटवा कर खेत से घर लौट रहा था। इसी दौरान वह गांव के चौक पर लिट्टी खरीद रहा था तभी मौके पर पहुंची पुलिस ने पकड़कर उसकी पिटाई कर दी। पीड़ित युवक  9 अप्रैल को डॉक्टर के पास पहुंचा तो इलाज के दौरान यह पता चला कि उसके एक आंख की रोशनी चली गई है।

  विज्ञापन

एसपी को आवेदन देकर लगाई न्याय की गुहार

पीड़ित युवक नीरज ने जिले के एसपी को एक आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है। पीड़ित ने सोशल मीडिया पर भी अपनी दास्तां लोगों को सुनाई है। इस संदर्भ में पुछे जाने पर चेरिया बरियारपुर के थानाध्यक्ष पल्लव कुमार ने बताया कि पुलिस को देखकर उक्त युवक भागने लगा उसी क्रम में उसे चोट लग गई थी। खैर, जो हो यह तो जांच का मामला है।

पहले भी पुलिस फोड़ चूकी है बस चालक की आंख

बेगूसराय में पुलिस द्वारा किसी की आंख फोड़ देने की यह पहली घटना नहीं है। मालूम हो कि इससे पहले जिले के ट्रैफिक डीएसपी ने सड़क पर गाड़ी खड़ा करने के आरोप में बस चालक की पिटाई की थी और उसकी आंख भी फोड़ दी थी।

No comments:

Post a Comment