पीएम मोदी ने अगले 03 मई तक लॉकडाउन का किया एलान - HINDUSTAN MEDIA

Search This Blog

Breaking खबरें

Tuesday, April 14

पीएम मोदी ने अगले 03 मई तक लॉकडाउन का किया एलान

देश के नाम संबोधन में पीएम मोदी ने 03 मई तक लॉकडाउन का किया एलान

सेन्ट्रल डेस्क/नई दिल्ली 

COVID - 19 कोरोना वायरस के संक्रमण से देश को बचाने के लिए अब अगले 03 मई  तक देश में लॉकडाउन जारी रहेगा। इस आशय का एलान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश को संबोधित करने के दौरान किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा है कि लोगों और राज्यों के सुझाव पर 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया गया है। अनुशासन के साथ हमें इसका पालन करना होगा। उन्होंने कहा कि अगले एक सप्ताह तक कोरोना के खिलाफ कठोरता बढ़ायी जाएगी। 20 अप्रैल तक हर कस्बे, थाने और राज्य को बारीकी से परखा जाएगा। इसके बाद जहां हालात ठीक होंगे वहां राहत दी जा सकती है।

हमारे लिए देशवासियों की जिंदगी महत्वपूर्ण

मालूम हो कि 24 मार्च को प्रधानमंत्री ने पहली बार लॉकडाउन का फैसला किया था। पहले लॉक डाउन के आखिरी दिन 14 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आर्थिक स्थिति से देखें तो लॉकडाउन काफी महंगा लगता है। इसकी बहुत बड़ी कीमत देश को चुकानी पड़ी है। लेकिन देशवासियों की जिंदगी के सामने इसकी कोई कीमत नहीं हो सकती। ऐसे में 3 मई तक लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला किया गया है।

कल जारी होगा विस्तृत गाइडलाइन 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार की तरफ से कल विस्तृत गाइडलाइन जारी की जाएगी। लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है, हमने कोरोना से कितना खुद को बचाया है इसका आंकलन किया जाएगा। इस अग्नि परीक्षा में जो सफल होंगे और जो हॉटस्पॉट नहीं बढ़ने देंगे वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी गतिविधियों की अनुमति दी जा सकती है। ये अनुमति भी सशर्त दी जाएगी। बाहर निकलने के नियम सख्त होंगे। लॉकडाउन के नियम टूटते हैं और कोरोना का पैर हमारे इलाके में पड़ता है तो सारी अनुमति तुरंत वापस ले ली जाएगी। इसलिए न कोई खुद लापरवाही करनी है और न किसी अन्य का लापरवाही करने देनी है।

पीएम मोदी ने देशवासियों से मांगा साथ

20 अप्रैल से चिन्हित क्षेत्र में सीमित छूट का प्रावधान गरीब भाई-बहनों को ध्यान में रखते हुए किया गया है। मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता इनकी दिक्कतों को दूर करना है।  सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याणा योजना के तहत इनकी मदद का फैसला किया है। गाइडलाइन में इनका विशेष ध्यान रखा गया है। रवि की फसल कटाई का काम चल रहा है। किसानों को कम से कम दिक्कत हो। दवा से लेकर राशन तक के देश में पर्याप्त भंड़ार हैं। सप्लाई चैन की बाधाएं लगातार दूर की जा रही है। हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के मोर्चे पर तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। इस समय 220 से ज्यादा लैबों में जांच की जा रही है।

कोरोना के नुकसान को टालने में कामयाब रहा भारत 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस नामक वैश्विक बीमारी से देश मजबूती से लड़ रहा है। देशवासियों के त्याग की वजह से कोरोना से होने वाले नुकसान को टालने में भारत काफी हद तक सफल रहा है। आप लोगों ने कष्ट सहकर भी अपने देश को बचाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आप अनुशासित सिपाही की तरह कर्तव्य निभा रहे हैं। इसके लिए मैं देशवासियों को नमन करता हूं।

भारतरत्न डॉ.अम्बेडकर को किया नमन

बाबा भीमराव अंबेडकर की जयंती पर हमारी सामूहिक शक्ति का प्रदर्शन उन्हें सच्ची श्रंद्धाजलि है। त्यौहारों के बीच देश के लोग जिस तरह से नियमों का पालन कर रहे हैं ये सारी बातें बहुत ही प्रेरक और प्रशंसनीय है। पीएम मोदी ने कहा कि आज पूरे विश्व में कोरोना की स्थिति से हम सभी परिचित है। अन्य देशों के मुकाबले भारत ने कैसे अपने यहां संक्रमण रोकने के प्रयास किए हैं। आपके इसके सहभागी भी रहे और साक्षी भी रहे हैं।  जब हमारे यहां कोरोना का यहां एक भी केस नहीं था भारत ने कोरोना प्रभावित देशों से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी गई थी। संक्रमितों की संख्या 100 से कम होने पर ही विदेशों से आने वाले लोगों के लिए 14 दिन का क्वारैंटाइन करना शुरू कर दिया था। 550 से कम मामलों पर देश में लॉकडाउन का ऐलान किया गया था।

भारत ने समस्या बढ़ने का इंतजार नहीं किया

पीएम ने कहा कि जैसे ही समस्या बढ़ी तेजी से फैसले लेकर उसी समय उसे रोकने का भरसक प्रयास किया। पीएम मोदी ने कहा एक माह पहले जिन देशों की स्थिति भारत की तरह आज वहां हजारों लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि भारत के मुकाबले 25 से 30 गुना अधिक मामले हैं। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का बहुत बड़ा लाभ देश को मिला है।

विज्ञापन

सात बातों में मोदी ने मांगा लोगों का साथ 

1. बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखना है जो कि बीमार हैं।

2. लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की लक्ष्मण रेखा का पालन करें।

 3. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय के निर्देशों का पालन करें।

4. कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने के लिए आरोग्य सेतू मोबाइल जरूर डाउनलोड करें।

5. जितना हो सके उतने गरीब परिवारों की देखभाल करें।

6. अपने व्यवसाय में काम करने वाले लोगों के प्रति संवेदना रखें।

7. देश के कोराना योद्धा डॉक्टर, नर्स, पुलिस सभी का सम्मान करें।

कोरोना संकट में हर संभव प्रयास कर रहे हैं राज्य

पीएम नरेंद्र मोदी कोरोना संकट में सार्थक प्रयास के लिए राज्य सरकारों की प्रशंसा की है। उन्होंने कहा राज्य सरकारों ने हर संभव प्रयास कर कोरोना को संभालने का काम किया है। इसके बावजूद कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। विश्वभर में स्वास्थ्य विशेषज्ञों और सरकारों को सतर्क कर दिया है। कोरोना के खिलाफ लड़ाई कैसे आगे बढ़े, हम कैसे विजयी बनें, नुकसान कम से कम कैसे हों, दिक्कत कैसे कम करें इन बातों को लेकर राज्यों के साथ राज्यों के साथ चर्चाएं की हैं।

पीएम ने त्यौहारों को लेकर लोगों को दी शुभकामनाएं 

देश को संबोधित करने से पहले पीएम मोदी ने त्यौहारों को लेकर लोगों को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि चिह्नित किए जा रहे विभिन्न त्यौहारों पर भारत भर के लोगों को शुभकामनाएं। इन त्यौहारों से भारत में भाईचारे की भावना को गहरा किया जा सकता है। वे खुशी और अच्छे स्वास्थ्य भी ला सकते हैं। आने वाले समय में हमें सामूहिक रूप से कोविड -19 के खतरे से लड़ने के लिए और अधिक मुस्तैद रहना है।

 कई प्रदेशों ने पहले ही बढ़ाया लॉकडाउन 

तमिलनाडु, पुडुचेरी, मिजोरम और अरुणाचल प्रदेश ने सोमवार को औपचारिक रूप से लॉक डाउन बढ़ाने की घोषणा की। जिसमें 30 अप्रैल तक 10 राज्यों को शामिल किया गया। अन्य राज्य ओडिशा, पंजाब, महाराष्ट्र, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और कर्नाटक हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की रिपोर्ट 

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि 15 राज्यों में से 25 जिलों ने पहले ही कोविड -19 संक्रमण का पता लगा लिया था। जिसमें 14 दिनों में फैलने और नए मामलों की सूचना नहीं थी। यह एक सकारात्मक रिपोर्ट है। वहीं गृह मंत्रालय के अनुसार, 24 घंटे के भीतर रिकॉर्ड 51 मृत्यु के साथ, कोरोनावायरस के कारण मौत का आंकड़ा 324 तक पहुंच गया और देश में मामलों की संख्या सोमवार को 10 हजार हो गई। इसमें कहा गया है कि 979 लोग ठीक हो चुके हैं और उन्हें छुट्टी दे दी गई है।

No comments:

Post a Comment